खुश रहकर हेल्दी रहें – एक मिनट की हंसी मतलब 10 मिनट की एक्सरसाइज

75 total views, 3 views today



हंसने या मुस्कुराने से रोजमर्रा का तनाव, उदासी और निराशा कम होकर लोगों को लंबी उम्र मिलती है। हमेशा खुश रहने वाले लोगों को रात में नींद अच्छी आती है।

दर्द निवारक –
जब हम हंसते हैं तो हमारे दिमाग में मौजूद खुशी वाला हार्मोन ‘एंडोर्फिन’ स्रावित होता है जो किसी भी दर्द निवारक दवा से 500 गुना ज्यादा प्रभावी होता है और फौरन हमारे दुख के एहसास को कम करता है।

सहनशक्ति –
कॉलेज के छात्रों पर किए गए एक शोध में पता चला है कि हंसने से सहनशक्ति बढ़ती है। इसके लिए कुछ छात्रों को बर्फ से भरी बाल्टी में हाथ डालने से पहले एक कॉमेडी सीरियल दिखाया गया और कुछ को नहीं दिखाया गया। कॉमेडी देखने वाले छात्र दूसरों की तुलना में बर्फीले पानी को सहने में 40 प्रतिशत ज्यादा सक्षम पाए गए।

अच्छी रिकवरी –
विशेषज्ञों के अनुसार हंसने वाले लोगों को सर्जरी के बाद कम मात्रा में दर्द निवारक दवाओं की जरूरत पड़ती है और उनकी रिकवरी भी जल्दी होती है।

दिल के लिए –
एक स्टडी से पता चला है कि जो लोग हर रोज 30 मिनट तक किसी भी तरह की कॉमेडी देखते हैं और खूब हंसते हैं, उनमें ऐसा न करने वालों की तुलना में हार्ट अटैक का खतरा 5 गुना कम हो जाता है।

नींद के लिए –
कोई हंसाने वाली फिल्म देखने से शरीर में खून का संचार 22 प्रतिशत तेज हो जाता है और इससे दिल को ताकत मिलती है। साथ ही हृदयाघात का खतरा भी कम होता है। हमेशा खुश रहने वाले लोगों को रात में नींद अच्छी आती है।

हंसी = व्यायाम
एक मिनट की भरपूर हंसी यानी ऐसी हंसी कि पेट पकड़ना पड़ जाए तो यह 10 मिनट तक किसी मशीन पर की गई भरपूर एक्सरसाइज के बराबर नतीजे देती है।

अच्छी सेहत के लिए
कैलोरी होगी बर्न
10 से 15 मिनट तक हंसने से कम से कम 50 कैलोरी ऊर्जा खर्च होती है।

इम्यून बूस्टर –
रोज हंसने से शरीर का प्रतिरक्षा तंत्र यानी बीमारियों से लड़ने की क्षमता 14 प्रतिशत तक बढ़ जाती है। कई शोधों से पता चला है कि हंसना हर तरह से फायदेमंद है

एनर्जी बढ़ाने के लिए –
हंसने से शरीर में एक खास किस्म का एंटीबॉडीज पैदा होता है जो हमारे रोग प्रतिरोधी तंत्र को तुरंत मजबूत करता है। हंसने से दिल, फेफड़ों और मांसपेशियों तक रक्त का प्रवाह अच्छी तरह से होता है। इससे फेफड़ों की कोशिकाएं खुलती हैं और ऑक्सीजन युक्त हवा की मात्रा बढ़ती है।

हंसिए और हंसाइए
क्योंकि यह है…
एकदम मुफ्त
दुनियाभर में उपलब्ध
पूरी तरह से प्राकृतिक
ओवरडोज से मुक्त
कोई दुष्प्रभाव नहीं
नाराज भी मान जाते हैं

हंसने के दौरान आपके चेहरे की 17 मांसपेशियां काम करती हैं। जबकि क्रोध या गुस्से में आप 43 मांसपेशियों का प्रयोग करते हैं। हंसने से मस्तिष्क के दाएं और बाएं दोनों भाग सक्रिय रहते हैं जिससे निर्णय क्षमता बढ़ती है और याददाश्त मजबूत होती है। छोटी-सी मुस्कान सामाजिक दायरे को बढ़ाकर आपको लोगों में लोकप्रिय बना सकती है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *